सरोज हॉस्पिटल में कोविड का इलाज कराना है तो पहले तीन लाख रुपए जमा करो, लोगों ने कहा दिल्ली राम भरोसे

ट्विटर पर कई लोग सरोज सुपर स्पेशियलिटी हॉस्पिटल के कथित सर्कुलर की एक तस्वीर साझा कर रहे हैं, जिसमें दावा किया गया है कि कोरोनो वायरस के इलाज के लिए भर्ती होने पर मरीजों से न्यूनतम 3 लाख रुपये लिए जाएंगे.

0
103
Saroj hospital coronavirus

ऐसे समय में जब दिल्ली में लोग कोरोनो वायरस के इलाज के लिए पहले से ही परेशान हैं, एक निजी अस्पताल द्वारा कोविड ​​-19 के रोगियों के लिए न्यूनतम बिल के रूप में 3 लाख रुपये निर्धारित करने का एक सनसनीखेज मामला सामने आया है.

ट्विटर पर कई लोग सरोज सुपर स्पेशियलिटी हॉस्पिटल के कथित सर्कुलर की एक तस्वीर साझा कर रहे हैं, जिसमें दावा किया गया है कि कोरोनो वायरस के इलाज के लिए भर्ती होने पर मरीजों से न्यूनतम 3 लाख रुपये लिए जाएंगे. ये तस्वीर वायरल भी हो रही है.

“मरीज को कम से कम तीन लाख रुपए देने होंगे. मरीज की श्रेणी और वो कितने दिनों तक अस्पताल में इलाज के लिए रुकते हैं, का इस न्यूनतम बिल से कोई लेना देना नहीं होगा. रोगी का शुल्क दैनिक आधार पर तय होगा होगा.  बिल राशि 3 लाख रुपए, या प्रति दिन शुल्क जो भी अधिक होगा, वो होगी, ये कहना है एम खजूरिया, सरोज ग्रुप ऑफ हॉस्पिटल्स के कार्यकारी निदेशक के नाम से जारी सर्कुलर का.

यहाँ यह बताना जरुरी है कि है कि हमने सरोज सुपर स्पेशलिटी अस्पताल से बात करने की कोशिश की. हमारा प्रयास रहा है कि यदि अस्पताल की तरफ से आधिकारिक रूप कोई स्पष्टीकरण आएगा तो हम न्यूज़ अपडेट करते हुए उस स्पष्टीकरण को  भी शामिल करेंगे.

इस बीच, ट्विटर पर इस सर्कुलर को लेकर हंगामा छिड़ गया है. लोग हैरान हैं कि आखिर कैसे कोई हॉस्पिटल इस तरह का सर्कुलर जारी कर सकता है.

“सर, 3 लाख न्यूनतम बिल और 4 लाख अग्रिम। इस  तरह # Covid19 उपचार को कितने भारतीय वहन कर सकते हैं? कृपया समीक्षा करें और स्वास्थ्य प्रणाली में सुधार करें। Thx, ”, एक ट्वीटर यूजर ने ट्वीट किया है.

इस सर्कुलर में यह भी कहा गया है कि एक मरीज को 2Bedded / 3Bedded श्रेणी में 4 लाख रुपये की अग्रिम और Single Room में 5 लाख रुपये और ICU में Rs.8 लाख अग्रिम देने  के बाद ही भर्ती किया जाएगा.

इसके अलावा, सरोज अस्पताल द्वारा जारी सर्कुलर अपन फीस को कानूनी ठहराने के लिए दिल्ली सरकार के एक रूलिंग  Govt Of Delhi ruling Vide their letter No. 23/413 Gen/Circular/HC/OGHS/HO/S366 dated 24/5/20 का भी हवाला देता है.

भाजपा ने इस सर्कुलर पर कड़ी आपत्ति जारी की है और मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल से स्पष्टीकरण माँगा है कि क्या सचमुच उनकी सरकार ने इस तरह का आदेश जारी किया है.

सरोज हॉस्पिटल द्वारा जारी सर्कुलर पर प्रतिक्रया देते हुए भाजपा के राष्ट्रीय सचिव, आरपी सिंह ने कहा है कि दिल्ली राम भरोसे है क्योंकि कोई भी आम आदमी कोविड उपचार नहीं करवा पा रहा है.

 

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here